ना ज्ञान, ना मैदान, फिर भी एथलेटिक्स में बनाई पहचान